समय से पहले और भाग्य से अधिक कभी किसी को कुछ नही मिलता है। Short motivational story in hindi

Advertisements

समय से पहले और भाग्य से अधिक, कभी किसी को कुछ नही मिलता है। यह कहावत कहती है कि किसी भी व्यक्ति को समय से पहले या भाग्य से अधिक कुछ नहीं मिलता है। यह मतलब है कि किसी भी काम को करने के लिए सही समय और सही अवसर का होना बहुत जरूरी होता है। यदि कोई व्यक्ति सही समय और सही अवसर का इंतजार नहीं करता है, तो उसे उसकी मनचाही चीजें नहीं मिलती हैं। उसे अपने भाग्य पर भरोसा करना भी जरूरी होता है, क्योंकि कभी-कभी भाग्य भी आपको सही समय पर सही चीजें प्रदान करता है।

इसलिए, व्यक्ति को समय और भाग्य के महत्व को समझना चाहिए और सही समय और अवसर का इंतजार करना चाहिए। इससे उसके जीवन में सफलता और सुख-समृद्धि की प्राप्ति हो सकती है।

Samay se pehle bhagya se jyada kuch nahi milta

इसके लिए व्यक्ति को समय का उपयोग समझना चाहिए और उसका अनुसरण करना चाहिए। उसे अपने लक्ष्यों और उद्देश्यों को प्राप्त करने के लिए समय के अनुकूल कदम उठाने चाहिए। संयम और अनुशासन से समय का उपयोग करना उसकी उन्नति में मदद करता है।

इसके अलावा, उसे अपने भाग्य के अनुसार काम करना चाहिए। वह अपने सामान्य दिनों में उच्च शृंखला के काम करने का विचार करना चाहिए जो उसे उसके लक्ष्यों के प्रति अधिक संवेदनशील बनाते हैं।

Advertisements

अंततः, समय और भाग्य दोनों का उपयोग करके व्यक्ति अपने जीवन में सफलता और सुख-समृद्धि की प्राप्ति कर सकता है।

Short motivational story in hindi

एक गांव में एक गरीब परिवार रहता था। उनमें से एक लड़की ने हमेशा सोचा कि उसे अपने जीवन में बदलाव लाना होगा। वह समय से पहले सोती थी और अपने कामों में थोड़ी देर लगाती थी।

एक दिन उसे अपने गांव से बाहर नौकरी मिल गई। वह नौकरी करने लगी और अपनी मेहनत से कमाई बढ़ाने लगी। वह समय से पहले ही काम पूरा करने लगी और भाग्य के अनुसार काम करती थी।

कुछ समय बाद, उसे अपनी मेहनत का फल मिलने लगा। उसकी सैलरी बढ़ती गई और उसकी ज़िन्दगी सुखी होने लगी। उसकी समय पर पहुंच और भाग्य के अनुसार काम करने की आदत उसको सफलता और सुख-समृद्धि लाने लगी।

Advertisements

इस घटना से वह सीख गई कि समय से पहले और अपने भाग्य के अनुसार काम करने से ही उसे सफलता और सुख-समृद्धि मिलती है।

Summary – सारांश

श्रीमद्भागवत गीता में श्री कृष्ण ने यह पंक्ति कही है कि “समय से पहले और भाग्य से अधिक कभी किसी को कुछ नही मिलता है।” इसलिए हमें हमेशा समय और अपने भाग्य पर भरोसा रखना चाहिए। ऐसा नहीं कि आप समय और अपने भाग्य के भरोसे ही बैठ जाओ। यदि आप अपने जीवन में सफलता और सुख-समृद्धि चाहते हो, इसके लिए आपको कर्म करने होंगे।

Scroll to Top