कोई भी इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मों से महान बनता है | Motivational Story in hindi

हाँ, यह सत्य है कि कोई भी इंसान जन्म से महान नहीं होता है, बल्कि उनके कर्मों से महान बनता है। अपनी शुरुआत के समय, हर व्यक्ति जन्म से निर्धारित गुणों, भावनाओं और विचारों के साथ पैदा होता है।

हालांकि, इन गुणों और भावनाओं को समय-समय पर उनके कर्मों से बदला जा सकता है। जो व्यक्ति अपने कर्मों के माध्यम से अपनी क्षमताओं को समझता है और उन्हें उनके सर्वोत्तम उपयोग के लिए उनके समाज और संसार के लाभ के लिए उपयोग करता है, वह आखिरकार महान बन जाता है।

कोई भी इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है।


जीवन के सभी क्षेत्रों में, सफलता की उपलब्धि करने के लिए लोगों को उनके कर्मों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। अपने कर्मों के माध्यम से, वे अपने अधिकारों, उन्नति और आनंद को बढ़ा सकते हैं। इसलिए, एक व्यक्ति जो समाज के लिए एक सकारात्मक योगदान देना चाहता है, उसे अपने कर्मों पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए। इसलिए, हम कह सकते हैं कि कोई भी इंसान जन्म से महान नहीं होता है, बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है।


यह भी महत्वपूर्ण है कि हम अपने आप में आत्मविश्वास रखें और अपने स्वयं के विकास पर काम करें। हमारे पास अपार संसाधन हो सकते हैं, लेकिन अगर हम उन्हें अपने कर्मों में समर्पित नहीं करते हैं, तो हम उनका उपयोग नहीं कर पाएंगे।

विशेष रूप से, हमें अपनी शिक्षा, अनुभव और सामाजिक ज़िम्मेदारियों का ज़िम्मेदारीपूर्वक सामना करना चाहिए। इसके अलावा, हमें अपने कर्मों के माध्यम से उच्चतम स्तर की नैतिकता, सामाजिक ज़िम्मेदारी और नैतिक मूल्यों का पालन करना चाहिए।

Motivatinal Story in hindi

एक गरीब बच्चे का जन्म एक छोटे से गाँव में हुआ था। उसे अपने माता-पिता के साथ एक छोटे से घर में रहना पड़ता था। वे बहुत गरीब थे और संसार की हर तकलीफ सहना पड़ता था। लेकिन बच्चे की इच्छाशक्ति थी कि वह अपने आप को सफल बनाना चाहता था।

एक दिन उसे अपनी पड़ोसी के बड़े बेटे ने देखा। वह बच्चे को देखता रहा, जो खुश नज़र आ रहा था। बड़ा बेटा उसे पूछता है कि क्या तुम सफल होना चाहते हो। उस छोटे बच्चे ने हां कहा।

बड़े बेटे ने उसे सलाह दी कि तुम पढ़ाई करो, जीते जी सफलता हासिल करो। बच्चे ने अपने सपने को पूरा करने के लिए पढ़ने की शुरुआत की।

उसने न तो बहुत समय लगाया और न ही वह बहुत धन खर्च कर सकता था। उसने अपनी पढ़ाई करते हुए अपनी समझ को बढ़ाया और एक दिन अपने एक बड़े सपने को पूरा करने का मौका प्राप्त किया।

उसने अपनी मेहनत और सफलता से अपनी आर्थिक स्थिति सुधारी और अपने परिवार को भी सुखद जीवन देने का मौका दिया। उसने अपने परिवार की आर्थिक स्थिति को सुधारा और उन्हें सुखद जीवन देने में सफल रहा। बच्चे ने अपनी कर्मयोगी सोच से जीवन का सफर आसान बना दिया। इससे स्पष्ट होता है कि कोई भी इंसान जन्म से महान नहीं होता है, बल्कि उसके कर्म उसे महान बनाते हैं।

Motivational Video in hindi


Summary - सारांश

कोई भी इंसान जन्म से नहीं बल्कि अपने कर्मो से महान बनता है। इसलिए, हमारे कर्म हमारे भविष्य को निर्धारित करते हैं। हम जितने अधिक अच्छे कर्म करेंगे, हमारा जीवन उतना ही सुखद होगा और हम अपने संबंधों, समाज और दुनिया के साथ अधिक संवेदनशील और समझदार बनेंगे।
एक टिप्पणी भेजें (0)
और नया पुराने